क्या कम पढ़ी लिखी लड़की के साथ शादी करना उचित होगा?

क्या कम पढ़ी लिखी लड़की के साथ शादी करना उचित होगा?

क्या कम पढ़ी लिखी लड़की के साथ शादी करना उचित होगा?

यदि आप एक लड़का हैं और आप एक ऐसे लड़के से शादी करना चाहते हैं, जो कम पढ़ी लिखी हैं। तो यह आपकी अपनी पसंद है। लेकिन अगर आप चाहते हैं कि हम आपको यह पता है कि कम पढ़ी लिखी लड़के से शादी करना चाहिए या नहीं।

इसके लिए हम आपको दो-तीन बातें पहले बताएंगे। फिर अंत में हम आपसे सोच-विचार करने के लिए कहेंगे। आइए जानते हैं कि कम पढ़ी-लिखी लड़की से शादी करना चाहिए या नहीं।

शादी के लिए शिक्षा जरूरी नहीं होता

हर चीज के दो पहलू होते हैं। एक अच्छा और दूसरा बुरा। इसलिए हमेशा अच्छी दृष्टि से सोचना चाहिए।

लड़कियां तो लड़कियां ही होती है। कोई कम पढ़ा लिखा है। तो उसको शादी के लिए मना कर देना भी सही नहीं है।

हो सकता है कि लड़की की कोई मजबूरी होगी। जिस कारण उसे अपनी पढ़ाई छोड़ देनी पड़ी हो या फिर उसका मन पढ़ाई के जगह किसी अन्य काम में लगा होगा। इस वजह से उसने पढ़ाई को पूरा करने का नहीं सोचा।

आपको शादी करनी है। मेला में तो नहीं जाना है। इसलिए जब भी शादी करें तो लड़की के मन को देखकर शादी करें। ना कि वह शिक्षित है या नहीं है, यह देख कर।

कम पढ़ी लिखी लड़की को कोई गुमान नहीं होता

यदि आप शिक्षित समाज में रहने वाले लोग हैं। तो आप अपने जैसे अवश्य शिक्षित लड़कियों से भी मिले होंगे। उनके स्वभाव से भी आप अच्छे से परिचित होंगे कि वह कैसे स्वभाव की होती हैं।

ऐसे में आपको बताने की जरूरत नहीं है कि शिक्षित लड़कियों का व्यवहार कैसा होता है। वह समाज को और अन्य लोगों को कैसा समझती हैं।

कितना अहंकार उनके अंदर भरा पड़ा रहता है। अब आप ही बताइए क्या आप उस व्यक्ति से शादी करना चाहते हैं, जो अहंकार से भरा पूरा हो। या फिर उस व्यक्ति से शादी करना चाहते हैं। जिसके अंदर अहंकार बिंदु मात्र भी छिपा नहीं है।

कम पढ़ी लिखी अच्छा नौकरी कर सकती हैं

आप यदि ऐसा सोचते हैं कि कम पढ़ी लिखी लड़की अपने जीवन में कभी सफल नहीं हो पाएगी। तो आप गलत समझते हैं। लड़की हो या लड़का यदि वह कम पढ़े लिखे हैं। तो भी आछ ऐसे नौकरी आते हैं।

जो कम पढ़े लिखे लोगों के लिए भी आशा की किरण होते हैं। इसलिए कोई कम पढ़ा लिखा है। केवल इसलिए आप उससे शादी करने के लिए इंकार नहीं कर सकते।

दोस्तों इस दुनिया में हर कोई पढ़ा लिखा हो या नौकरी पेशा हो। यह तो जरूरी नहीं कारण जब हमारे हाथों की उंगलियां ही एक समान नहीं होती। तो हम इस दुनिया के सभी लोगों को एक जैसा कैसे समझ सकते हैं।‌ 

किसी में ज्यादा अच्छाई होती है। तो किसी में कम कोई ज्यादा बुरा होता है। तो कोई कम बुरा होता है।‌ इसलिए गलत सही की पहचान करना खुद ही सीखना चाहिए।

निष्कर्ष

आज हम जिस समाज में रहते हैं। इसे मॉडर्न समाज कहते हैं। जहां के लोग सोच से भी मॉडर्न होने चाहिए। आप अपने विचारों से मॉडर्न बनेंगे तो आपको खुद ही समझ में आ जाएगा कि आपको कैसी लड़की से शादी करना चाहिए।आपके लिए लड़की का गुण एवं स्वभाव महत्व रखना चाहिए। बाकी सब कुछ तो बाद में भी हो सकता है।

One comment